Chay

By Shivam Dwivedi
Oct 25 2020 1 min read

एक तलब ही तो है तुम्हारी प्यास की जो हर पहर तुझे तलाश करती है..

0 Reads
 0 Likes
Report