तुम ख्वाब हो...

By Atmika Saigal
Oct 13 2020 1 min read

तुम ख्वाब हो इक, तुम्हे हकीगत बनाना है... मेरे वज़ूद के आसमान को, इक सतरंगी पहचान दिलाना है... तेरे बेशुमार मोहब्बत के सागर की मेरे रब, मुझे बस इक बून्द चुराना है... तेरे बेशकीमती अफ़साने का, मुझे भी एक लम्हा बन जाना है... आईने से साफ दिखे दुनिया की सच्चाई, भटकूँ न कही बस तुझे ही राह दिखाना है, तुम एक ख्वाब हो जिसे, मुझे इक बार जी जाना है । Aatmika

13 Reads
 4 Likes
Report